CM नीतीश से शिकायत के बाद पुलिस की टूटी नींद: DSP ने सीओ को गिरफ्तार करने का दिया आदेश, फ्लैट के नाम पर ऐंठा 22 लाख रूपया

CM नीतीश से शिकायत के बाद पुलिस की टूटी नींद: DSP ने सीओ को गिरफ्तार करने का दिया आदेश, फ्लैट के नाम पर ऐंठा 22 लाख रूपया

SITAMARHI : इस वक्त एक बड़ी खबर बिहार के सीतामढ़ी जिले से सामने आ रही है. मेजरगंज के तत्कालीन अंचलाधिकारी चंदन कुमार की गिरफ्तारी का आदेश जारी किया गया है. आरोपी सीओ चंदन के ऊपर एक युवक से फ्लैट खरीदने के नाम पर लगभग 22 लाख रुपये ऐंठने का आरोप है. मामले की जांच कर रहे सदर डीएसपी ने अरेस्ट करने का आदेश दिया है.


मामला सीतामढ़ी जिले के मेजरगंज थाना का है. कांड संख्या- 115/21 में मेजरगंज के तत्कालीन अंचलाधिकारी चंदन कुमार की गिरफ्तारी का आदेश जारी किया गया है. यह आदेश सदर डीएसपी रामाकांत उपाध्याय की ओर से जारी किया गया है. बताया जा रहा है कि मुंगेर जिला के दशहरा बाजार थाना अंतगर्त दशहरा बाजार के रहने वाले विशेश्वर शर्मा के बेटे चंदन कुमार ने सीतामढ़ी जिले के मेजरगंज थाना अंतगर्त  कुंवारी मदन गांव के रहने वाले सुबोध सिंह के बेटे प्रभात कुमार से 21 लाख 96 हजार रूपया लिया, जब ये मेजरगंज अंचलाधिकारी के पद पर तैनात था.


प्रभात कुमार ने जब सीओ चंदन कुमार से पैसा लौटाने को कहा तो वह आनाकानी करने लगा. कई बार प्रभात ने चंदन से पैसा माँगा लेकिन उसने पैसे वापस लौटाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. आखिरकार प्रभात ने जुलाई महीने में 10 तारीख को चंदन के खिलाफ मेजरगंज थाने में जाकर शिकायत कर दी. जिसकी जांच चल रही है. प्रभात पिछले दिनों मुख्यमंत्री के जनता दरबार में भी पहुंचा था और उसने सीएम नीतीश को चंदन की करतूत के बारे में बताया था. उसके बाद सीएम ने संबंधित अधिकारियों से इस मामले में कार्रवाई करने का आदेश दिया था.


सीएम के आदेश के बाद इस मामले में जांच तेज हुई और अब सीतामढ़ी के सदर डीएसपी रामाकांत उपाध्याय ने आरोपी सीओ चंदन कुमार के खिलाफ गिरफ्तारी का आदेश जारी कर दिया है. इस केस का आईओ नैमुद्दीन अंसारी को बनाया गया है. बताया जा रहा है कि चंदन फिलहाल बेगूसराय जिले के किसी अंचल में सीओ के पद पर तैनात है. पुलिस की जांच में पता चला है कि प्रभात कुमार ने चंदन को 21 लाख 96000 रुपया दिया था.


अनुसंधान के क्रम में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को उपलब्ध करवाया साथ ही व्हाट्सएप चैट के माध्यम से जो लेनदेन की बात हुई है. उसको भी समर्पित किया है. जिसके बाद डीएसपी रामाकांत उपाध्याय ने इस केस में सीओ द्वारा धोखाधड़ी कर 21 लाख 96000 रुपये ठगी करने के मामले को सत्य पाकर उनके गिरफ्तारी का आदेश जारी कर दिया है. फरार घोषित किये जाने की स्थिति में डीएसपी ने कुर्की जब्ती का भी आदेश दिया है.